Wednesday, December 19, 2018
Home आलेख / विचार

आलेख / विचार

    डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : हिंद वॉच मीडिया पोर्टल के इस हिस्से में आप जिन आलेखों और रचनाओं को पढ़ते हैं, उनमें व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इन आलेखों और रचनाओं में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति हिंद वॉच मीडिया को उत्तरदायी नहीं ठहराया जा सकता है। इन आलेखों और रचनाओं में सभी सूचनाएं बगैर संपादन किए ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार हिंद वॉच मीडिया के नहीं हैं, तथा हिंद वॉच मीडिया उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।

    उपजाऊ जमीनों पर पसरता रेगिस्तान

    संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम यानि यूनेप की रपट कहती है कि दुनिया के कोई 100 देशों में उपजाउ या हरियाली वाली जमीन रेत के...

    भ्रामक है बुद्ध और पुनर्जन्म को जोड़ने वाली विपस्सना की शिक्षा

    गौतम बुद्ध की परम्परा, उनके धर्म और संस्कृति को नष्ट करने के लिए बहुत गहराई से चाल चली गयी थी। पिछली सदी में डॉ....

    सिर पर कुप्रथा ढ़ोते भारत का विश्वगुरु बनने का सपना बेमानी

    एक तरफ अंतरिक्ष को अपने कदमों से नापने के बुलंद हौसलें हैं, तो दूसरी तरफ दूसरों का मल सिर पर ढ़ोते, नरक कुंड की...

    ईवीएम पर आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में उठे ज्वलंत सवाल

    नई दिल्ली। ईवीएम की विश्वसनीयता सवालों के घेरे में रही है। अब इसको लेकर सामाजिक संगठन मैदान में उतारते हुए दिखाई दे रहे हैं।...

    प्रधानमंत्री की चुप्पी से संदिग्ध होता जा रहा है राफेल डील...

    राफेल विमान सौदा केंद्र सरकार और खासकर प्रधानमंत्री की निजी छवि के लिए घातक सिद्ध होता जा रहा है। इसमें कोई शक नहीं है...

    हिंदी राजभाषा नहीं लोकभाषा

    दिल्ली के एक नामचीन पब्लिक स्कूल के कक्षा तीन के बच्चे को गृह-कार्य डायरी में लिख कर भेजा गया कि बच्चे का ‘श्रुत लेखन’...

    नोटबंदी के दौरान हुई मौतों का हिसाब किसके पास है ?

    आज दो महत्वपूर्ण आरटीआई का जिक्र करना इसलिए जरुरी है क्यूंकि देश 72वें स्वतंत्रता दिवस का जश्न मनाने जा रहा है। यह कोई मामूली...

    2019 में मोदी के फिर चुने जाने की संभावना घटी :...

    नई दिल्ली नरेंद्र मोदी के 2019 में दोबारा चुने जाने की उम्मीद 99% से घटकर मौजूदा वक्त में 50 फीसदी रह गई है। साल 2017...

    बच्चियों के दर्द पर चुप क्यूँ है समाज ?

    पिता राधामोहन ने सन 1982 में 'प्रातःकमल' के नाम से एक अखबार प्रारंभ किया था। बाद में ब्रजेश ने अपने पिता की विरासत को...

    सिर्फ भूख ने नहीं मारा मंडावली की तीन बेटियों को

    मुजफ्फरपुर, फिर एनआरसी और कांवड़िये… ऐसे ही नए मुद्दे क्या खड़े हुए कि समाज भूल गया कि दिल्ली में संसद से बामुश्किल 12 किलोमीटर...