Tuesday, August 21, 2018
Home आलेख / विचार

आलेख / विचार

    डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : हिंद वॉच मीडिया पोर्टल के इस हिस्से में आप जिन आलेखों और रचनाओं को पढ़ते हैं, उनमें व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इन आलेखों और रचनाओं में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति हिंद वॉच मीडिया को उत्तरदायी नहीं ठहराया जा सकता है। इन आलेखों और रचनाओं में सभी सूचनाएं बगैर संपादन किए ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार हिंद वॉच मीडिया के नहीं हैं, तथा हिंद वॉच मीडिया उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।

    प्रधानमंत्री जी, न आप गांधी हैं और न अडानी-अंबानी, जमनालाल बजाज...

    प्रिय प्रधानमंत्री जी, न आप गांधी है और न अडानी-अंबानी, जमनालाल बजाज है... “उद्योगपतियों के साथ खडे होने पर आप भले न डरे, लेकिन सोचिए जरूर,...

    बीमार नागरिकों का देश कैसे बन पाएगा विश्वगुरु ?

    साल 2015 में भारत में करीब 28 लाख टीबी के मरीज थे। भारत में टीबी के मरीजों की संख्या अनुमान से तीन गुणा ज्यादा...

    न्यूजरूम के तनाव से हो रही खबरनवीसों की मौतों से मालिक...

    मालिक की पूंजी का पेट मुनाफे से ही भरता है, इसलिए अखबार को हल हाल में छपना होता है। चाहे आतंकवादियों की गोली हो...

    मदर की तपस्या को मटियामेट करते अनुयायी

    जिस मदर टेरेसा के नाम पर भारत ही नहीं पूरी दुनिया को अपार भरोसा है, उनकी संस्था में अगर बच्चों की कीमत पचास हजार...

    दारू की बोतल पर संविधान कुर्बान!

    योगेश किसलय झारखंड के वरिष्ठ पत्रकार हैं। इन्होंने झारखंड से विजुअल और प्रिंट मीडिया में लम्बी पारी खेली है। वे प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री...

    मुंडा दिसुम पर कब्जा करने का सरकारी षडयंत्र

    झारखंड के मुंडा दिसुम में पांच महिलाओं के साथ हुए गैंगरेप, तीन पुलिसकर्मियों का अगवा किया जाना, एक निर्दोंष आदिवासी की पुलिसिया कार्रवाई में...

    भारतीय संस्कृति और रुपहले पर्दे की गंगा

    फिल्मकार और कला निर्देशक सुमित मिश्रा की शॉर्ट फिल्म “अमृता एंड आई” बहुत सराही जा रही है और अनेक अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोहों में 21...

    सरकार बुधनी की मौत पर लीपापोती न करती तो बच सकती...

    प्रधानमंत्री जी अपने सपनों के जिस भारत के निर्माण की दिशा में अग्रसर हैं, उसे उन्होंने ‘न्यू इंडिया’ का नाम दिया है, यानी एक...

    भुखमरी के सवाल पर एक पत्रकार का मुख्यमंत्री के नाम खुला...

    मुख्यमंत्री जी, खबरें बहुत लिखी और ख़ारिज की जा चुकी हैं। आपकी घोषणाओं का पुलिंदा भी अख़बारों व अन्य दृश-श्रव्य संचार साधनों के रथ पर सवार...

    सुदेश महतो ने खुद लिखी है अपने पतन की कहानी

    कहते हैं कि “काठ की हांड़ी चूल्हे पर बार-बार नहीं चढ़ती।” पिछले चुनाव में ही जनता ने सुदेश महतो को साफ़ संदेश दे दिया...
    WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com

    हिंद वॉच मीडिया के बारे में दोस्तों को बताएं

    • Follow by Email
    • Facebook
      Facebook
    • Google+
      http://hindwatch.in/category/%E0%A4%86%E0%A4%B2%E0%A5%87%E0%A4%96-%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%9A%E0%A4%BE%E0%A4%B0">
    • Twitter
    • YouTube
    • LinkedIn