Print Friendly, PDF & Email



हाथरस-एससी एसटी एक्ट को निष्प्रभावी किये जाने के मसले को लेकर जाटव एकता समिति के अध्यक्ष मूलचन्द्र निम, महामंत्री ललित कुमार विमल व कोषाध्यक्ष डा. किशन प्रताप सिंह ने राष्ट्रपति के नाम जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपकर दलितों के साथ नाइंसाफी बतायी है।

ज्ञापन में कहा गया है कि सर्वोच्च न्यायालय द्वारा देश में पूर्व से बनी व्यवस्था के अन्तर्गत अनुसूचित जाति, जनजाति, अत्याचार निवारण अधिनियम में संशोधन के आदेश से देश के करोड़ों दलितों के साथ नाइंसाफी की है।

नई व्यवस्था से निश्चित ही पीड़ित को न्याय नहीं मिलेगा और उत्पीड़न सैकड़ों गुणा त्वरित गति से बढ़ेंगे। इस आदेश से देश भर के दलितों में भय एवं रोष व्याप्त है।

जाटव एकता समिति उपरोक्त मांग को लेकर भारत बंद का समर्थन करती है और मांग करती है कि केन्द्र सरकार शीघ्र ही उक्त आदेश के विपरीत पुनर्विचार याचिका और दलित-पिछड़ों की सही जनसंख्या पता लगाने के लिये आधार कार्ड पर ही जाति भी अंकित कराये।

जिससे देश में इस वर्ग की आबादी का सही आंकड़ा आ सके।केन्द्र सरकार को देश की जनता में कारण स्पष्ट कर देना चाहिये कि वह आधार कार्ड पर जाति का उल्लेख किन कारणों से नहीं कर रही है।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓
loading...



SHARE
Previous articleगलत पेपर देने से छात्रों का हंगामा
Next articleसत्य कोयले की खदान में लगी आग है (कविता)- बाबुषा कोहली
नीरज चक्रपाणी उत्तर प्रदेश के हाथरस में सक्रीय पत्रकारिता कर रहे हैं। रिपोर्टिंग का लम्बा अनुभव रखने वाले नीरज ने अनेक प्रतिष्ठित मीडिया सस्थानों के साथ काम किया है। नीरज हिंद वॉच मीडिया के लिए हाथरस से नियमित तौर पर स्वतंत्र एवं स्वैच्छिक रूप से रिपोर्टिंग करते रहे हैं। सटीक, निर्भीक और प्रमाणिक जमीनी पत्रकारिता उनकी विशेषता है। हिंद वॉच मीडिया समूह जमीनी सरोकारों से जुड़ी जनपक्षधरता की पत्रकारिता कर रहा है। साप्ताहिक अखबार, न्यूज़ पोर्टल, वेब चैनल और सोशल मीडिया नेटवर्क के माध्यम से जमीनी और वास्तविक ख़बरों को निष्पक्षता और निडरता के साथ अपने पाठकों तक पहुंचाने के लिए हिंद वॉच मीडिया पूरी समर्पण से काम करता है। भारत और विदेशों में यह वेब पोर्टल पढ़ा जा रहा है।