दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को मांग-पत्र सौंपते भाजपा नेता मुनीश वत्स
Print Friendly, PDF & Email



दिल्ली : (हिंद वॉच ब्यूरो)। भारतीय जनता पार्टी के नेता मुनीश वत्स ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर यह मांग की है कि इस देश में बाल दिवस सिख गुरु श्री गोविंद सिंह जी के साहिबजादों की शहीदी दिवस के दिन मनाया जाए। सिख अस्मिता के लिए अभियान चलाते हुए मुनीश वत्स जनता एवं सरकार को जागरूक करने का काम कर रहे हैं। सिख धर्म के महत्त्व को बढ़ावा देने वाला यह अभियान में अनेक मांगों को लेकर आगे बढ़ रहा है। इस अभियान की मुख्य मांगें निम्नलिखित हैं :

  1. इस देश में बाल दिवस सिख गुरु श्री गोविंद सिंह जी के साहिबजादों की शहीदी दिवस के दिन मनाया जाए।
  2. दिल्ली के चाचा नेहरू बच्चों के हॉस्पिटल का नाम बदलकर गुरु गोविंद सिंह बाल हॉस्पिटल किया जाए।
  3. स्कूलों में बच्चों खालसा पंथ का इतिहास पढ़ाया जाए।
  4. हिंद की चादर गुरु तेग बहादुर जी के शहीदी दिवस पर भारत में सरकारी छुट्टी हो।
  5. गुरु गोविंद सिंह जी के प्रकाश पर्व पर सरकारी छुट्टी हो।
  6. सरकार ऐसे कार्यक्रम चलाए जिससे जनता में सिख गुरुओं के बलिदान और शिक्षाओं के बारे में जागरूकता फैले।

भाजपा नेता और इस अभियान के संचालक मुनीश वत्स ने बताया कि “इस देश में अलग अलग धर्मों की अनेकों छुट्टियां होती  हैं, वहीं सिख धर्म की केवल एक मात्र छुट्टी होती है गुरु नानक जी के प्रकाश पर्व की, इसलिए मैंने प्रधानमंत्री जी को पत्र लिखकर यह निवेदन किया है कि दो छुट्टियां और बढ़ाकर सिख धर्म का सम्मान बढ़ाया जाए।”

इस अभियान की मांगों को लेकर मुनीश वत्स ने दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से भी मुलाकात की और उनको एक मांग-पत्र सौंपा। इस मांगपत्र में यह कहा गया है कि दिल्ली शहर का सिख इतिहास में विशेष महत्त्व है क्यूंकि गुरु तेग बहादुर जी दिल्ली में ही शाहिद हुए थे। इसलिए दिल्ली सरकार से मांग की गयी है कि दिल्ली में छुट्टी के साथ-साथ सरकार ऐसे कार्यक्रम चलाए जिससे दिल्ली की जनता में गुरु तेग बहादुर जी के बलिदान और शिक्षाओं के बारे में जागरूकता फैले।

सामाचार लिखे जाने तक प्रधानमंत्री कार्यालय या दिल्ली सरकार से इस अभियान के तहत की गयी मांगों पर कोई जवाब नहीं आया है।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓

यह भी पढ़ें :  अब दिल्ली के पुलिस थानों में बनेंगे खिलौने और बच्चों की किताबों से भरे रंग-बिरंगे कमरे