Print Friendly, PDF & Email


    महेश पोद्दार, राज्यसभा सांसद

रांची : कर्णाटक चुनाव के मद्देनजर भारतीय जनता पार्टी के रणनीतिकारों ने देशभर से 55 भरोसेमंद सांसदों का चुनाव किया है। सांसदों की इस टीम को ख़ास तौर पर बूथ स्तर तक संगठन खड़ा करने और चुनाव के दौरान सांगठनिक कार्यों की निगरानी और मॉनिटरिंग करने का दायित्व दिया गया है। झारखण्ड से राज्यसभा सांसद महेश पोद्दार उन चुनिन्दा और भरोसेमंद सांसदों  में एक हैं, जिन्हें कर्णाटक विधानसभा चुनाव में पार्टी शीर्ष नेतृत्व ने अति सक्रिय रखा है और महत्वपूर्ण जिम्मेवारी सौंपी है।

सांसदों की इस टीम को कर्णाटक विधानसभा चुनाव में कुछ ख़ास इलाकों की जिम्मेवारी दी गयी है। सूत्र बताते हैं कि इस टीम की रिपोर्टिंग प्रभारी भूपेन्द्र यादव के जरिये सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को हो रही है। चुनाव की घोषणा होने के बाद से अबतक महेश पोद्दार लगातार तीन बार कर्णाटक प्रवास कर चुके हैं। अभी भी वे कर्णाटक में रहकर चुनाव की दृष्टि से संगठन को धार देने में जुटे हैं।

महेश पोद्दार को कर्णाटक के मांड्या जिले का दायित्व सौंपा गया है, जहाँ चार विधानसभा क्षेत्र, मद्दुर, मांड्या, मल्लावेली और मेलुकोट, हैं। इन चारो विधान सभा क्षेत्रों में स्थानीय निकायों से लेकर सांसद तक भाजपा का आजतक खाता भी नहीं खुला है। यही कारण है कि भाजपा ने चुनाव के मद्देनजर मांड्या जिले के लिए विशेष रणनीति बनाई है।

गौरतलब है कि 225 सदस्यीय कर्नाटक विधानसभा के लिए 224 सीटों पर एक ही चरण में मतदान होगा। 1 सीट पर एंग्लो-इंडियन समुदाय के सदस्य को मनोनित किया जाता है। कर्नाटक में 12 मई को वोट डाले जाएंगे और 15 मई को वोटों की गिनती होगी। चुनाव आयोग के मुताबिक कर्नाटक में 4 करोड़ 96 लाख वोटर हैं। 97 फीसदी मतदाताओं के फोटो पहचान पत्र जारी कर दिए गए हैं। इस बार कर्नाटक में 56 हजार पोलिंग बूथ बनाए गए हैं।

अमित शाह के गुडबुक वाले इन 55 सांसदों के कंधे पर इस बार कर्णाटक के चुनाव का बड़ा भार है। अब देखना यह है कि सांसद महेश पोद्दार की जिम्मेवारी में मंड्या जिले से भारतीय जनता पार्टी कितने उम्मीदवारों को विजयी बना पाती है।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓
loading...