Print Friendly, PDF & Email

री पत्तेदार सब्जियां खाने के फायदों के बारे में तो आपने खूब सुना होगा, इसे खाने से हमारे शरीर में प्रोटीन, कैल्शियम और आयरन जैसे कई पोषक तत्वों की पूर्ति होती है। लेकिन आपको मालूम नहीं होगा कि मानसून में हरे पत्तेदार सब्जियां को खाने से अवॉइड ही करना चा‍हिए क्योंकि इस मौसम में हरी सब्जियों में कई तरह के कीटाणु और कीड़े पनपने लगते है जिसकी वजह से पेट से जुड़े संक्रमण होने का खतरा बढ़ जाता है। मानसून के सीजन को बीमारियों का घर कहा जाता है इसल‍िए इस मौसम में खानपान का विशेष ध्यान रखकर आप खुद को इस मौसम में बीमारियों से बचा सकते है।

क्यों नहीं खानी चाहिए मानसून में हरी पत्तेदार सब्जियां?

मानसून के दौरान हरी पत्तेदार सब्जियों में कीड़े अपना घर बना लेते हैं। ये कीड़े और बैक्टीरिया इतने सूक्ष्म होतो है जो आसानी से नजर नहीं आते है। पत्तागोभी, पालक, फूलगोभी और ब्रॉकली जैसी हरी सब्जियों में कीडे़-मकौडे़ अंदर तक घुस जाते है। जो आसानी से दि‍खाई भी नहीं देते है। इसलिए अगर आप इन सब्जियों को खाना भी है तो पकाने से पहले नमक वाले गर्म पानी में डाल कर इन्हें उबाल लें और फिर पकाएं।

मानसून के दौरान हरी पत्तेदार सब्जियों को ठीक तरह से सूरज की रोशनी नहीं मिल पाती जिसके चलते इनमें कीटाणुओं का ढेर जम जाता है। इन सब्जियों का सेवन करने से ये वायरस शरीर में प्रवेश कर जाते हैं, जिससे कई प्रकार की संक्रामक बीमारियां हो जाती हैं। साथ ही इससे हमारी बॉडी का एनर्जी लेवल कम हो जाता है, और पाचन तंत्र गड़बड़ा जाता है।

बारिश में पत्तेदार सब्जियों में गंदगी सबसे ज्यादा होती है जो धोने से भी नहीं जाती है। इसलिए जरूरी है कि खाने से पहले इन्हें गर्म पानी में धोया जाए। तब इनका इस्तेमाल किया जाए। तेज आंच में अच्छे से इन्हें पकाना भी चाहिए तभी इनका सेवन करें वरना पेट में संक्रमण हो सकता है।

मानसून के दौरान सब्जियों को हरा भरा दिखाने के चक्कर में कई उत्पाीदक इन्हें आकर्षित दिखाने के लिए हरे रंग का इंजेक्शन लगाते हैं। इन नकली रंगों का सीधा असर हमारी इम्यूनिटी पर पड़ता है और इम्य निटी कमजोर होने लगती है, जिससे शरीर को तमाम तरह की बीमारियां हो जाती है।

बारिश के दिनों में ज्यादात्तर सब्जियां गंदे नाले या दलदल वाली जगह के आसपास उगाया जाता है, इसलिए इन पत्तों में गंदी जगह पनपने वाले खतरनाक का कारण बनते है।

हरी सब्जियां अक्सर पानी वाली जमीन में पैदा होती हैं। बरसाती पानी के वजह से बहुत सारे बैक्टी‍रिया पनपने लगते है। पानी में पैदा होने वाली इन सब्जियों से इंफेक्शन होने का खतरा बहुत अधिक होता है।

बारिश के मौसम में सामान्यता मेटाबॉलिज्म कम हो जाता है। अगर आप कही बाहर खान खाने जा रहे हैं तो कोशिश करें हेल्दीे या टेस्टी खाने के नाम पर इस मौसम में ऑयली फूड खाने से परहेज करें। दोपहर में खाना खाने के बाद सोना भी नहीं चाहिए क्योंकि इस मौसम में ज्यादातर लोग अपच की शिकायत करते हैं। इसलिए जरूरी है कि हल्का खाना खाएं और खाने के बाद सोएं नहीं।

बारिश में दूषित सब्जियां खाने से Salmonella, Giardiasis, और Helicobacter Pylori जैसे बैक्टीूरिया की वजह से पेट में इंफेक्शन हो सकता है। इस वजह से पेट फूलना, अपच, उल्टियां, दस्त और बुखार आना इसके मुख्य लक्षण होते है।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓