Friday, February 23, 2018
Home Authors Posts by संजय जोठे

संजय जोठे

7 POSTS 0 COMMENTS
संजय जोठे एक चर्चित स्वतंत्र लेखक हैं| वे राजनैतिक, सामाजिक, धर्म, आध्यात्म और दलित विषयों पर बेबाक लेखन के लिए जानें जाते हैं| समता, न्याय और सम्मान के पैरोकार संजय हिंद वॉच मीडिया के लिए नियमित रूप से लिखते रहे हैं| हिंद वॉच मीडिया जमीनी सरोकारों से जुड़ी जनपक्षधरता की पत्रकारिता कर रही है| साप्ताहिक अखबार, न्यूज़ पोर्टल, वेब चैनल और सोशल मीडिया नेटवर्क के माध्यम से जमीनी और वास्तविक ख़बरों को निष्पक्षता और निडरता के साथ अपने पाठकों तक पहुंचाने के लिए हिंद वॉच मीडिया पूरी समर्पण से काम करती है| भारत और विदेशों में यह वेब पोर्टल पढ़ा जा रहा है|

दासत?के विरुद्?एक समान मुखर थे महात्म?ज्योतिबा फुले और बाबा साहब

Ready to build innovative IoT solutions that rethink the FUTURE? WE CAN. Our goal is 1000 times BTC Founded at Harvard University,Atrl is...

विश्व शौचालय दिवस पर भारतीय संस्कृति के “शीर्षासन मॉडल” की भी...

यहाँ जिन लोगों को ब्रह्मपुरुष के मस्तिष्क ने जन्म दिया उनका मस्तिष्क कोइ काम नहीं करता, भुजाओं से जन्मे लोगों की भुजाओं में लकवा...

अवैज्ञानिक और पिछड़ा है सनातन दर्शन में आत्मा का सिद्धांत

भारत के धार्मिक दर्शनों में अब तक बौद्ध धर्म के अनत्ता के सिद्धांत को ठीक से नही समझा गया है| इसके भारी दुष्परिणाम हुए...

ओशो: प्रतिक्रान्ति का शिखर पुरुष

बाबाओं के सम्मोहन के विषय में बात करते हुए आप अगर ओशो रजनीश को भूल रहे हैं तो आप सबसे बड़ी भूल कर रहे...

सिलेबस में मनमाना बदलाव वर्ण व्यवस्था को फिर से लागू करने...

भारत में बहुत तेजी से शिक्षा पद्धति और इतिहास में बदलाव किया जा रहा है| वर्तमान सरकार अपने भगवा एजेंडे को लागू करने के...

शिक्षा और तर्क के बगैर वंचित समाज का उत्थान संभव नहीं

भारत के दलितों आदिवासियों, ओबीसी (शूद्रों) और मुसलमानों को मानविकी, भाषा, समाजशास्त्र, दर्शन इतिहास, कानून आदि विषयों को गहराई से पढने/पढाने की जरूरत है|...

आखिर क्यूँ सभ्य और वैज्ञानिक नहीं बन पा रहा है भारतीय...

गौरवपूर्ण अतीत और बहुसंस्कृति की खूबियों के बावजूद भारतीय समाज स्वाभाविक रूप से वैज्ञानिक और प्रगतिशील कम दिखता है| वैज्ञानिक सोच पर आधारित सभ्य...
Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com