बिजली विभाग की लापरवाही से किशोर का पैर कटा

0
83
Print Friendly, PDF & Email



सासनी, हाथरस। मुहर्रम के ताजिया लेकर आ रहे चार किशोरों को 33000 हाईटेंशन करेंट लगने से घायल होने पर अलीगढ रेफर कर दिया गया। घटना के दौरान दो किशोरों की हालत गंभीर थी, जिसमें एक किशोर की चिकित्सकों को टांग काटनी पडी। किशोर की टांग कटने से परिजनों में उदासी छाई हुई है।

बता दें कि इतवार (1 अक्टूबर) को ताजिया निकाले जाते वक्त नगला भूरा में ईदगाह के सामने चार किशोर अलम की छड लेकर आ रहे थे। जिसमें किसी प्रकार 33 हजार का विद्युत करेंट दौड गया था। जिससे चार किशोर सुहेल पुत्र फजरूद्दीन (14) नासिर पुत्र अख्तर(16)कम्बू पुत्र चंदा (17) रिहान पुत्र भूरे खां(17) घायल हो गये थे, नासिर और सुहेल की हालत ज्यादा गंभीर थी। चारों किशोरों को उपचार के लिए अलीगढ रेफर किया गया था। जिसमें नासिर और सुहेल की हालत को देखते हुए चिकित्सकों ने नासिर का सीधा हाथ और सुहेल का सीधा पैर काटना पडा। कम्बू और रिहान की हालत में सुधार बताया है।

विद्युत विभाग की लापरवाही से हुई घटना

  • एसडीओ ने फाडा ग्रामीणों का प्रार्थनापत्र

सासनी। विद्युत विभाग की लापरवाही और उदासीनता के किस्से काफी रोचक रहे हैं| दो दिन पूर्व गांव रूदायन के एक ग्रामीण का घरेलू बिल 1 करोड से अधिक का निकाल दिया तो कहीं बिजली के तारों की वजह से मवेशियों तथा लोगों को जान से हाथ धोना पडा। यदि विद्युत विभाग लापरवाही नहीं बरतता तो शायद गांव नगला भूरा में यह घटना घटित नहीं होती।

गांव नगला भूरा के बाहर ईदगाह के सामने जो 33 हजार वोल्टेज के तार गुजर रहे हैं उनकी ऊंचाई मात्र 11 फीट है जब कि इन तारों की ऊंचाई करीब 25 फीट होनी चाहिए। इसके बारे में ग्रामीणों ने कई बार मौखिक और लिखित रूप से अधिकारियेां को अवगत करा दिया गया हैं मगर अधिकारियों को कनों पर जूं तक नहीं रेंगी है। ग्रामीणों ने बताया कि घटना के बाद वे एक प्रार्थनापत्र लेकर एसडीओ नागेन्द्र सिंह के पास विद्युल ताइन के करंट को बंद गये थे। मगर एसडीओ ने लाइन बंद कराने की बात तो दूर उन्होंने ग्रामीणों से लिया प्रार्थना पत्र भी फाडकर फेंक दिया। जिससे ग्रामीण मायूस होकर लौट आए। ग्रमीणों ने बताया कि इसकी षिकायत वह तहसील  दिवस में करेंगे। ग्रामीणों ने बताया कि घटना में जो बच्चे घायल हुए हैं उनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है सभी बीपीएल कार्ड धारक हैं अब इनके उपचार के लिए खर्च कहां से वहन होगा। यह एक विचारनीय बात है। वहीं एसडीओ नागेन्द्र सिंह ने बताया कि उनके पास कोई व्यक्ति गांव नगला भूरा से प्रार्थना पत्र लेकर नही आया। यदि कोई प्रार्थना पत्र लेकर आता है तो प्रार्थना पत्र फाड़ा नहीं जाता उस पर कार्रवाई की जाती है। अन्य लोगों के भी विद्युत संबधी षिकायतों के प्रार्थना पत्र उनकी समस्याओं के निदान के लिए आए हैं जिन पर कार्रवाई की जा रही है।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓
loading...



SHARE
Previous articleटीम इंडिया के पास अच्छे खिलाडियों की कमी नहीं है : रोहित शर्मा  
Next articleहाथरस में स्वच्छता अभियान रस्मअदायगी बन कर रह गया
नीरज चक्रपाणी उत्तर प्रदेश के हाथरस में सक्रीय पत्रकारिता कर रहे हैं। रिपोर्टिंग का लम्बा अनुभव रखने वाले नीरज ने अनेक प्रतिष्ठित मीडिया सस्थानों के साथ काम किया है। नीरज हिंद वॉच मीडिया के लिए हाथरस से नियमित तौर पर स्वतंत्र एवं स्वैच्छिक रूप से रिपोर्टिंग करते रहे हैं। सटीक, निर्भीक और प्रमाणिक जमीनी पत्रकारिता उनकी विशेषता है। हिंद वॉच मीडिया समूह जमीनी सरोकारों से जुड़ी जनपक्षधरता की पत्रकारिता कर रहा है। साप्ताहिक अखबार, न्यूज़ पोर्टल, वेब चैनल और सोशल मीडिया नेटवर्क के माध्यम से जमीनी और वास्तविक ख़बरों को निष्पक्षता और निडरता के साथ अपने पाठकों तक पहुंचाने के लिए हिंद वॉच मीडिया पूरी समर्पण से काम करता है। भारत और विदेशों में यह वेब पोर्टल पढ़ा जा रहा है।
Hi this is test content
loading...