Print Friendly, PDF & Email

दुनिया की सबसे ज्यादा वजन वाली महिलाओं में से एक मिस्र की 36 वर्षीय इमान अहमद वजन घटाने का इलाज कराने के लिए11 फरवरी को भारत पहुंच गयीं। मिस्र के एक विमान से भारत आने वाली एमन करीब चार बजे मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर उतरीं। उनका इलाज करने वाले चिकित्सकों ने कहा कि सर्जरी से पहले एमन करीब एक महीने तक निगरानी में रहेगी। वह 25 वर्षों से अपने घर से बाहर नहीं निकली हैं।

दुनिया की सबसे मोटी महिलाओं में से एक एमन अभी मुंबई के बेरिएट्रिक सर्जन मुफ्फाजल लकड़ावाला और उनकी टीम की देखरेख में हैं। लकड़ावाला के एक सहायक ने बताया कि “वे एमन का करीब तीन महीने से इलाज कर रहे हैं और उन्होंने मिस्र के अलेक्जेंड्रिया शहर से घर के बिस्तर पर ही लेटे रहने को मजबूर इमान को लाने के लिए सभी आवश्यक एहतियाती कदम उठाये।” उन्होंने कहा “इमान को उसके मामले की जटिलता को देखते हुए मुंबई लाना चुनौतिपूर्ण है क्योंकि वह अत्यधिक जोखिम वाली मरीज है जो पिछले 25 साल से अपने घर से निकल भी नहीं पाई हैं|”

मुंबई के सैफी अस्पताल के बेरिएट्रिक सर्जरी विभाग की प्रमुख और सेन्टर ऑफ ओबेसिटी एंड डाइजेस्टिव सर्जरी में एडवांस्ड लैप्रोस्कोपिक एंड बेरिएट्रिक सर्जन अर्पणा गोविल भास्कर और गंभीर और गहन चिकित्सा विभाग के सीनियर इनटेंसिविस्ट कमलेश बोहरा, एमन के साथ थे।डॉक्टरों ने कहा “वह अपनी बहन शैमा अहमद के साथ आज सुबह यहां पहुंची। ज्यादा वजन और पिछले 25 वर्षों से कहीं ना जाने के कारण यात्रा के दौरान हो सकने वाले खतरों से निबटने की तैयारियों के लिए पिछले दस दिन से डॉक्टरों का एक दल मिस्र में था।”

एमन की सुरक्षा की जरच्च्रतों के अनुसार मिस्र के स्थानीय कारीगरों ने विमान में एक विशेष बेड बनाया। एहतियाती तौर पर पर विमान में पोर्टेबल वेंटिलेटर, डिफाइब्रिलेटर, ऑक्सीजन सिलेंडर और अन्य दवाइयों समेत सभी आवश्यक उपकरणों की व्यवस्था की गयी। एमन को जरच्च्री चिकित्सा उपकरणों से लैस एक ट्रक से सैफी अस्पताल लाया जा रहा है, जहां उनके लिए एक विशेष कक्ष बनाया गया है।

अल अरबिया के मुताबिक जन्म के समय ही उसका वजन असामान्य रूप से 5 किलोग्राम था| डॉक्टरों ने उसे एलिफेंटाइसिस से पीड़ित पाया|यह एक परजीवी संक्रमण है, जिसमें पिंडलियों में काफी सूजन आ जाती है| डॉक्टरों ने यह भी बताया कि “ग्लैंड्स (ग्रंथियों) में गड़बड़ी के चलते उसके शरीर में जरूरत से ज्यादा पानी जमा हो जाता है|”

[stextbox id=”black” caption=”दुनियाँ की सबसे मोटी महिला”]दुनियाँ की सबसे मोटी महिलाओं में से एक इमान अभी मुंबई के बेरिएट्रिक सर्जन मुफ्फाजल लकड़ावाला और उनकी टीम की देखरेख में हैं। लकड़ावाला के एक सहायक ने बताया कि “वे इमान का करीब तीन महीने से इलाज कर रहे हैं और उन्होंने मिस्र के अलेक्जेंड्रिया शहर से घर के बिस्तर पर ही लेटे रहने को मजबूर इमान को लाने के लिए सभी आवश्यक एहतियाती कदम उठाये।” [/stextbox]

इमान जब छोटी थी, तब वह अपने हाथों के सहारे इधर-उधर घूम-फिर लेती थी, लेकिन 11 साल की उम्र होते-होते वह अपने भारी वजन के कारण खड़ी नहीं हो पाती थी और घर में सिर्फ खिसक पाने में सक्षम रही| सेरेब्रल स्ट्रोक होने के बाद उसे प्राइमरी स्कूल छोड़ना पड़ा और वह पूरी तरह से बिस्तर पर रहने लगी|उसके बाद से इमान बिल्कुल शिथिल और कुछ भी कर पाने में असमर्थ होकर सिर्फ अपने घर में ही पड़ी रहती है|

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इमान को मुंबई लाने के लिए कोई भी एयरलाइन तैयार नहीं थी| जिसके बाद डॉक्टर लकड़वाला ने सुषमा स्वराज को ट्वीट कर मदद मांगी| सुषमा ने उन्हें तुरंत मदद मुहैया करवाई|

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓