Print Friendly, PDF & Email



काफी तमाशे और हंगामे के बाद आखिरकार सलमान खान को जेल से बेल मिल गयी और अब वे आजाद होकर अपनी फिल्मों का काम शुरू कर सकेंगे, हालांकि उन पर कोर्ट ने कई तरह की पाबंदियां भी लगाईं हैं। काला हिरण शिकार मामले में जोधपुर की सत्र अदालत ने अभिनेता सलमान खान को जमानत दे दी है।

गौरतलब है कि अब वह जेल से बाहर आ सकेंगे। सेशन कोर्ट के इस आदेश की कॉपी सीजेएम अदालत में भेजी जाएगी, जिसके बाद सलमान की रिहाई का आदेश जोधपुर सेंट्रल जेल को भेजा जाएगा और उन्हें रिहा किया जाएगा।

सलमान खान के वकील ने बताया कि सत्र न्यायाधीश रविंद्र कुमार जोशी की अदालत ने 25,000 रुपये के दो स्योरिटी बॉन्ड पर उन्हें जमानत दे दी है। वह आज शाम तक ही जेल से बाहर आ सकते हैं।

हालांकि प्रतिपक्ष का कहना अलग है, विश्नोई समाज के वकील महिपाल विश्नोई ने कहा, ‘अदालत ने उन्हें 25-25 हजार रुपये के दो मुचलके जमा करने का आदेश दिया है। वह अदालत की अनुमित के बिना देश नहीं छोड़ सकते और 7 मई को उन्हें निजी तौर पर अदालत में पेश होने पड़ेगा।’

विश्नोई समाज सत्र न्यायालय के इस फैसले के खिलाफ हाई कोर्ट का रुख कर सकता है। अदालत की सुनवाई के वक्त सलमान खान की बहनें अलवीरा और अर्पिता के अलावा उनके बॉडीगार्ड शेरा भी कोर्ट में मौजूद थे। इससे पहले सेशन अदालत के जज रविंद्र जोशी ने सलमान खान को 5 साल की सजा सुनाने वाले सीजेएम कोर्ट के जज खत्री से मुलाकात की थी। सुनवाई के दौरान सरकारी वकील ने सलमान खान की जमानत का विरोध किया था।

यह भी पढ़ें :  जेल की हवा सकते हैं फुटबॉल स्टार रोनाल्डो, जुर्म है टैक्स चोरी का

शुक्रवार शाम को राजस्थान सरकार ने 87 जजों का ट्रांसफर कर दिया था। इनमें शुक्रवार को सलमान की बेल अर्जी की सुनवाई करने वाले जज रविंद्र कुमार जोशी भी शामिल हैं। इसके बाद इस पर सस्पेंस बताया जा रहा था कि आखिर उनकी बेल की अर्जी पर सेशन कोर्ट में सुनवाई होगी या नहीं।

यह लोग नहीं जानते हैं कि हालांकि किसी जज के ट्रांसफर के फैसले के अमल में एक सप्ताह से 10 दिन तक का वक्त लगता है। इसलिए रविंद्र कुमार जोशी ने ही बेल की अर्जी पर सुनवाई की।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓